रविवार, 18 मई 2008

रेन वाटर हार्वेस्टिंग न लगा तो बिल्डिंग सील!

महाबीर सेठ
जालंधर, पंजाब में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम को प्रभावी बनाने के लिए प्रदेश सरकार अब दिल्ली सरकार की तर्ज पर काम करेगी। सभी नगर निगमों, नगर काउंसिल और स्थानीय निकाय विभाग के क्षेत्रीय कार्यालयों से रेन वाटर हार्वेस्ंिटग सिस्टम के बारे में रिपोर्ट मांगी गई है। जिन बड़ी शिक्षण और व्यावसायिक इमारतों में यह सिस्टम नहीं बना है, उन्हें सील भी किया जा सकता है।
दिल्ली में भू-जल के गिरते स्तर को देखते हुए दिल्ली नगर निगम ने 15 दिनों में शहरवासियों को इमारतों में यह सिस्टम लागू करने के लिए नोटिस जारी किए हैं।
इसमें शिक्षण संस्थानों व बड़े व्यवसायिक इमारतों को सील करने की बात कही गई है। पंजाब में तेजी से गिरते भू-जल स्तर को रोकने के लिए भी राज्य सरकार ऐसा ही करने जा रही है।
अहमदाबाद की तर्ज पर बिल्डिंग बायलाज में संशोधन कर राज्य में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाना अनिवार्य तो बना दिया गया लेकिन इस पर अमल नहीं होता। प्रदेश सरकार ने 2006 में इस बारे में सभी नगर निगमों को आदेश भी दिया था लेकिन कोई असर नहीं हुआ। प्रदेश में दो वर्र्षो में सैकड़ों इमारतें बनी जिनमें यह सिस्टम लागू नहीं किया जा सका।
http://www.bhaskar.com

1 टिप्पणी:

yaksh ने कहा…

देर आए,दुरुस्त आए,हालाकि क्रियानव्यन में समय लगेगा।किंतु शुरुआत हुई।वह दिन दूर नही जब बडी ईमारतो के अलावा छोटे से छोटे घर के नक्शे भी बिना रेन वाटर हार्वेस्टिंग के पास नहीं होंगे।